adsense code

Monday, September 25, 2017

रात्रि में

रात्रि में ही अगले दिन की व्यवस्था करके सोएं ताकि आज की प्रभात मधुर और शांत बने।

परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

Tuesday, September 19, 2017

किसी कार्य

किसी कार्य को करने से पहले अगर योजना ठीक से बनायी गयी है तो सफ़लता अवश्य मिलती है।

परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

Friday, August 25, 2017

रात्रि में ही

रात्रि में ही अगले दिन की व्यवस्था करके सोएं ताकि आज की प्रभात मधुर और शांत बने।

परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

Monday, August 21, 2017

आपके हाथ में

आपके हाथ में कर्म करने का पूरा पूरा अधिकार है। आप जहॉ तक हो सके उसे अच्छा बनाइए।


परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

अभ्यास करना होगा

अभ्यास करना होगा – अच्छे लोगों के साथ बैठने का अभ्यास, बुरों से दूर रहने का अभ्यास, वाणी में नियन्त्रण का अभ्यास, 

अपने अन्दर विकारों को न जगने देने काअभ्यास


परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

Saturday, August 19, 2017

कितना संग्रह

कितना संग्रह कर लिया – इसकी कोई कीमत नहीं। कितने आनंद से कोई जी लिया, इसकी कीमत है।

परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

प्रतीक्षा में

प्रतीक्षा में व्यर्थ जाने वाले समय के सदुपयोग का विकल्प अवश्य अपने पास रखिए।

 

परम पूज्य सुधांशुजी महाराज 

Saturday, August 5, 2017

दुनिया के

दुनिया के जंजालो से बचते रहो, इनमे फंसना मुर्खता है और इनसे बचना समझदारी है।

Wednesday, August 2, 2017

अपनी प्रतिष्टा

  • अपनी प्रतिष्टा को भूलकर ,अकिंचन बनकर गुरू के दर  दर पर सेवा करने से जो प्राप्ति होगी ,उसकी कोई बराबरी नहीं !
  • सुधान्शुजी जी महाराज

Sunday, July 30, 2017

jigyasa aur samadhan

[http://jiggyaasa.blogspot.com/2011/04/blog-post_24.html?spref=bl
jigyasa aur samadhan: पुज्य गुरुदेव !ब्रह्मज्ञान क़ा मार्ग क्या हे ?: "जिज्ञासु : पुज्य गुरुदेव !ब्रह्मज्ञान क़ा मार्ग क्या हे ? महाराजश्री :-गुरु के प्रति श्रद्धा हे ,माता पिता के प्रति श्रद्धा हे